गणतंत्र दिवस पर निबंध Gantantra divas per nibandh in hindi

भारत के गणतंत्र दिवस पर निबंध हिन्दी में लिखे।

गणतंत्र दिवस

गणतंत्र दिवस- यह हमारा एक राष्ट्रीय त्योहार है यह पर्व देश के सभी राज्यों में मनाया जाता है यह पर्व वह हर वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है। 26 जनवरी भारतीय इतिहास की एक महत्वपूर्ण तिथि है। सर्वप्रथम 26 जनवरी 1929 में कांग्रेस ने संपूर्ण आज़ादी की घोषणा रावी नदी के किनारे लाहौर में थी। भारत की आजादी के बाद 26 जनवरी 1950 को भारत का संविधान लागू किया गया इसी दिन से भारत में संविधान घोषित हुआ। इसलिए 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के नाम से पुकारा जाता है।
fastduniya nibandh

महत्व- इस राष्ट्रीय त्योहार का ऐतिहासिक और राष्ट्रीय का महत्व है 15 अगस्त 1947 को आजादी मिलने के बाद भारत में कोई संविधान नहीं था। 1950 ईस्वी में भारत का नया संविधान बनकर तैयार हुआ इस संविधान को बनने में 2 वर्ष 11 महीने 18 दिन लग गए। 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू किया गया। इसके अनुसार देश के सभी नागरिकों को  समान सामाजिक आर्थिक और राजनीतिक अधिकार दिए गए। नागरिकों को समान अवसर प्रदान किया गया इसके अलावे नागरिक कर्तव्यों का निर्धारण किया गया। भारत को एक धर्मनिरपेक्ष राज्य घोषित किया गया।


गणतंत्र दिवस उत्सव- इस राष्ट्रीय पर्व को देशभर के लोग धूमधाम से मनाते हैं सभी सरकारी भवनों पर विभाग के प्रधान झंडा फहराते हैं। इस अवसर पर दिल्ली में दर्शनीय मनोरम कार्यक्रम होता है इस दिन राष्ट्रपति इंडिया गेट के पास झंडा फहराते हैं। वे राष्ट्र के नाम संदेश भी लोगों को देते हैं। सुरक्षाबलों का आकर्षक परेड होता है। सभी राज्यों की अलग-अलग जानकारी प्रस्तुत की जाती है।


विद्यालय में यह पर्व- विद्यालय में यह पर्व धूमधाम से मनाते हैं इसकी तैयारी 1 सप्ताह पूर्व से की जाती है इस दिन बचे सुबह सवेरे विद्यालय में जमा होकर प्रभात फेरी निकालते हैं आगे सामूहिक सफाई का काम होता है फिर बच्चे तैयार होकर विद्यालय आते हैं यहां विद्यालय के प्रधानाध्यापक या प्रधान झंडा फहराते हैं। इसके बाद विद्यालय में राष्ट्रगीत गाया जाता है अंत में बच्चों को मिठाई पार्टी जाती है और अपने राष्ट्र के बारे में बताया जाता है दोपहर के बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम होता है।

प्रभाव- गणतंत्र दिवस मनाने का बहुत गहरा प्रभाव हम पर पड़ता है यह पल हमें एक नया जोश और संकल्प भरता है यह देश की आजादी राजनीतिक स्वाधीनता नागरिक अधिकारों की रक्षा एवं समानता की भावना को विकसित करता है यह हमारे राष्ट्रीय जीवन का आवश्यक अंग बन गया है।

उपसंहार- 26 जनवरी से 1950 ईसवी को अपना नया संविधान लागू करके लोगों ने लिंग, वर्ग, जाति को हटाकर सबको एक समान अधिकार दिए गए।महापुरूषों ने समाज के निर्माण का जो सपना जो देखा था आज वह सपना बिखरता दिख रहा है। देश में फिर से बिखराव हो रहा है इस प्रकार की प्रवृत्ति से हमारा राष्ट्र कमजोर होता है। हमें बुराइयों के विरुद्ध युद्ध जारी रखना चाहिए।

Post a Comment

Please Post Positive Comments & Advice

Previous Post Next Post